difference between ivf and test tube baby

टेस्ट ट्यूब बेबी और आईवीएफ में क्या अंतर होता है

आईवीएफ उपचार और टेस्ट ट्यूब बेबी दोनों प्रजनन उपचार हैं, जो जोड़े आसानी से प्राकृतिक रूप से गर्भधारण नहीं कर सकते हैं, उनहे सफलतापूर्वक गर्भधारण करने में मदद करता हैं। दोनों प्रजनन उपचार एक जोड़े की स्वास्थ्य स्थिति की अच्छी तरह से जांच करने के बाद अत्यधिक सटीकता के साथ किए जाते हैं।

आईवीएफ और टेस्ट ट्यूब बेबी में क्या अंतर है?

(What is the difference between IVF and test tube baby?)

दो शब्दावलियां काफी भ्रमित करने वाली हो सकती हैं और एक व्यक्ति को यह सोचने के लिए प्रेरित कर सकती हैं कि वे एक दूसरे से बहुत अलग हैं। लेकिन, सच्चाई यह है कि आईवीएफ और टेस्ट ट्यूब बेबी में कोई खास अंतर नहीं है। जब लैब-असिस्टेड प्रेग्नेंसी की शुरुआत हुई, तो इसे टेस्ट ट्यूब बेबी के नाम से जाना जाता था। इससे पहले कि लोग आईवीएफ जैसे अल्फा शब्दों को समझते, इस प्रक्रिया को टेस्ट ट्यूब बेबी कहना सबसे आसान तरीका था। यह मुख्य रूप से इसलिए था क्योंकि निषेचन (Fertilization) एक प्रयोगशाला जैसे वातावरण और एक परखनली (Test Tube) में हुआ था।

आईवीएफ (IVF) टेस्ट ट्यूब बेबी प्रोसेस का आधुनिक संस्करण है। चिकित्सा उपचार के रूप में आईवीएफ शब्द का उपयोग पिछले एक दशक में चलन में आया। चाहे आप इसे टेस्ट ट्यूब बेबी कहें या आईवीएफ गर्भावस्था, उपचार शुरू से ही उल्लेखनीय सीमा तक विकसित हुआ है।

आज, आईवीएफ उन जोड़ों के लिए सबसे अधिक उपयोग किया जा रहा है जो प्राकृतिक तरीके से गर्भधारण नहीं कर सकते हैं या जिन्हें कम शुक्राणु, खराब अंडे की गुणवत्ता, दर्दनाक निर्माण (painful erection), ओवुलेशन में परेशानी आदि का सामना करना पड़ता है। टेस्ट ट्यूब बेबी और आईवीएफ (IVF) जैसे प्रजनन उपचार चिकित्सा विज्ञान के इतिहास में बहुत बड़ी छलांग हैं। 

इतना ही नहीं; चिकित्सा विज्ञान ने आईवीएफ (IVF) के साथ आईसीएसआई (इंट्रासाइटोप्लास्मिक स्पर्म इंजेक्शन) (ICSI) , टीईएसए (टेस्टिकुलर एपिडीडिमल स्पर्म इंजेक्शन) (TSI) , पीआरपी (प्लेटलेट-रिच प्लाज्मा) (PRP) और आईएमएसआई (इंट्रासाइटोप्लास्मिक मॉर्फोलॉजिकली सेलेक्टेड स्पर्म इंजेक्शन) (IMSI) जैसे अधिक जटिल उपचारों के साथ आईवीएफ प्रक्रिया के तरीके में क्रांति ला दी है।

आईवीएफ या टेस्ट ट्यूब उपचार की आवश्यकता किसे है?

(Who requires IVF or Test Tube Treatments?)

कोई भी व्यक्ति या दंपत्ति जो सामान्य प्रसव को गर्भधारण करने या संसाधित (Process) करने में परेशानी का सामना करते हैं, वे आईवीएफ (IVF) या ट्यूब बेबी प्रेगनेंसी पर भरोसा कर सकते हैं, जब तक कि वे समस्या का कोई प्रमुख अंतर्निहित कारण न हों।

जिन जोड़ों को अस्पष्टीकृत बांझपन का सामना करना पड़ता है, वृद्ध जोड़े, जिनके कई गर्भपात हो चुके हैं, जिन लोगों में शुक्राणुओं (Sperm Count) की संख्या कम है, फैलोपियन ट्यूब (Fallopian Tube) में रुकावट है, उन्हें आईवीएफ उपचार या जिसे सामान्य लोग आसानी से टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया के रूप में समझते हैं, इस तकनीक से लाभान्वित हो सकते हैं।

यदि पुरुष साथी दर्दनाक इरेक्शन से पीड़ित है, शुक्राणु पैदा करने में कठिनाई है, या शुक्राणुओं की संख्या कम है, तो वे एक शुक्राणु दाता की मदद ले सकते हैं, जिसके शुक्राणु (Sperm) का उपयोग महिला साथी के अंडों के साथ निषेचन (Fertilization)  के लिए किया जा सकता है।

आईवीएफ या टेस्ट ट्यूब बेबी की प्रक्रिया क्या है?

(What is the procedure of IVF or test tube baby?)

चरण 1: उपचार की शुरुआत (Beginning of the treatment)

यह  आपके IVF उपचार की पहली आधिकारिक शुरुआत है। प्रक्रिया में, दाता (Donor) मूल रूप से यह समझने की कोशिश करता है कि आपके मासिक धर्म का पहला दिन कौन सा है।

चरण 2: अंडाशय की उत्तेजना (Stimulation of ovaries)

एक सामान्य चक्र में, अंडाशय (Ovaries) एक अंडे का उत्पादन करते हैं। लेकिन जब आपका आईवीएफ उपचार शुरू होता है, तो प्रजनन विशेषज्ञ आपको दवा देंगे ताकि आपका अंडाशय अधिक अंडे पैदा कर सकें। विशेषज्ञ फॉलिकल्स (Follicles) की प्रगति पर कड़ी निगरानी रखेंगे।

चरण 3: अंडा पुनर्प्राप्ति (Egg retrieval)

इस चरण को ‘एग पिक अप’  (Egg Pick Up) के रूप में भी जाना जाता है। यह बहुत लंबी प्रक्रिया नहीं है। इस चरण में, डॉक्टर अंडाशय से परिपक्व अंडे एकत्र करता है। यह एनएसथीसिया (Anesthesia) के प्रभाव में किया जाता है। विशेषज्ञ अंडे को इकट्ठा करने के लिए अंडाशय में एक सुई का मार्गदर्शन करता है। इस प्रक्रिया में औसतन लगभग 8-15 अंडे एकत्र किए जाते हैं।

चरण 4: शुक्राणु की तैयारी (Sperm preparation)

कई कारकों के आधार पर, उन पुरुष भागीदारों को अंडे की पुनर्प्राप्ति के दिन शुक्राणु का नमूना देना होगा। अगर डोनर स्पर्म या फ्रोजन स्पर्म का इस्तेमाल किया जाता है तो फर्टिलिटी स्पेशलिस्ट टीम इसे तैयार करेगी। सभी गंदगी से छुटकारा पाने के लिए शुक्राणु को धोया जाएगा। एक बार जब टीम को स्वस्थ शुक्राणु मिल जाते हैं, तो वे इसे अंडे से मिलने के लिए तैयार करेंगे।

चरण 5: निषेचन (Fertilization)

अंडे और शुक्राणु को एक डिश में रखा जाएगा जहां जहां वे आसानी से फ्यूज कर सकते हैं। जब शुक्राणु मानव शरीर में अंडे से मिलते हैं तो स्वाभाविक रूप से क्या होता है, इसका यह कृत्रिम तरीका है।

चरण 6: भ्रूण विकास (Embryo development)

अंडे भ्रूण के साथ निषेचित होंगे और एक भ्रूण (Embryo) में विकसित होंगे। भ्रूण को एक विशेष इनक्यूबेटर में रखा जाएगा और अगले 4-6 दिनों तक इसके विकास की निगरानी की जाएगी।

चरण 7: भ्रूण स्थानांतरण (Embryo transfer)

भ्रूण स्थानांतरण के दौरान, महिला को अपनी टांगों को फैलाकर लिथोटॉमी स्थिति (Lithotomy Position) में लेटने के लिए कहा जाता है। डॉक्टर गर्भाशय ग्रीवा (Cervix) को खोलेंगे और कैथेटर का उपयोग करके भ्रूण (Embryo) को गर्भाशय में स्थानांतरित करेंगे। इस  प्रक्रिया में 10-15 मिनट लगते हैं। लेकिन मरीज को अगले 30 मिनट तक उसी स्थिति में लेटे रहने के लिए कहा जाता है, ताकि भ्रूण अच्छी तरह से अंदर जा सके।

इन चरणों को करने के बाद, 2 सप्ताह के बाद जच्चा (mother) को रक्त परीक्षण (Blood Test) के लिए बुलाया जाएगा। यदि रक्त परीक्षण एचसीजी (HCG) की उपस्थिति का पता लगाता है। रक्त में मौजूद एचसीजी (HCG) एक सफल गर्भधारण की और इशारा करता हैं।

अंत मे (In the end)

हम चिकित्सा प्रगति के युग में रह रहे हैं जहां प्रौद्योगिकी (Technology) ने लाखों बांझ जोड़ों के लिए आशाएं लाई हैं। चिकित्सा उद्योग के पास कई उपचार और समाधान हैं जो एक जोड़े को पितृत्व की असीम खुशियाँ प्रदान कर सकते हैं। यदि आप अपने प्रजनन तंत्र में कोई समस्या महसूस कर रहे हैं तो आप प्रजनन विशेषज्ञों से परामर्श कर सकते हैं। आप जितनी जल्दी भावी उपचार लेंगे, आपके सफल गर्भाधान की संभावना उतनी ही अधिक होती है। उपचार में देरी केवल नकारात्मक प्रभाव ला सकती है। आईवीएफ और टेस्ट ट्यूब बेबी में अंतर की बात करें तो उनमें ऐसा कोई अंतर नहीं है। दोनों उपचार केवल नाम से भिन्न होते हैं।