थायराइड में गर्भधारण कैसे करें – How to get Pregnant in Thyroid?

How to Get Pregnant in Thyroid - थायराइड में गर्भधारण

थायराइड समस्या महिलाओं की प्रजनन क्षमता पर प्रभाव डाल सकती है। अक्सर महिलाएं यह सवाल पूछती हैं कि क्या थायराइड समस्या के बावजूद वे मां बन सकती हैं। थायराइड ग्रंथि ट्राईआयोडोथायरोनिन और थायरोक्सिन जैसे हार्मोन का निर्माण करती है, जो भ्रूण के मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए, थायराइड प्रेग्नेंसी के दौरान महत्वपूर्ण होता है, और थायराइड समस्याओं वाली महिलाओं को नियमित जांच करवानी चाहिए।

गर्भधारण के दौरान थायराइड की स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण भूमिका होती है क्योंकि यह सीधे मात्र गर्भवती महिला को ही नहीं, बल्कि उसके डेवलपिंग शिशु को भी प्रभावित करता है। प्रेग्नेंसी के दौरान थायराइड कार्य के परिवर्तन हो सकते हैं, और पूर्व मौजूदा थायराइड समस्याएँ भी गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती हैं।

​थायराइड के प्रकार – Type of Thyroid

थायराइड एक ग्रंथि है जो गले के पीछे स्थित होती है और थायराइड हार्मोन का उत्पादन करती है, जो शरीर के मेटाबोलिज्म को नियंत्रित करते हैं। थायराइड समस्याएँ विभिन्न प्रकार की हो सकती हैं, जिनमें:

  • हाइपोथायराइडिज्म (Underactive Thyroid): इस स्थिति में थायराइड ग्रंथि थायराइड हार्मोन की प्राप्ति को कम कर देती है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर का मेटाबोलिज्म धीमा हो जाता है।
  • हाइपरथायराइडिज्म (Overactive Thyroid): इस स्थिति में थायराइड ग्रंथि अधिक थायराइड हार्मोन उत्पन्न करती है, जिससे शरीर का मेटाबोलिज्म बढ़ जाता है।
  • थायराइड नोड्यूल्स: थायराइड ग्रंथि में गांठें या नोड्यूल्स हो सकते हैं, जिनमें से कुछ गर्भावस्था और स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं।
  • थायराइड कैंसर: थायराइड में कैंसर का विकास भी हो सकता है, लेकिन यह बहुत ही अद्वितीय और गंभीर होता है।
  • अंगूठा ग्रंथि (Thyroiditis): इसमें थायराइड ग्रंथि की सूजन हो सकती है, जो कुछ समय के लिए होती है और फिर निरापत वापस आ सकती है।

थायराइड समस्याएँ गंभीर हो सकती हैं, और उनका उचित इलाज और नियमित मेडिकल मॉनिटरिंग महत्वपूर्ण होता है।

गर्भधारण में थायराइड के जोखिम – Risks of Thyroid in Pregnancy

गर्भधारण में थायराइड समस्याओं के कुछ जोखिम हो सकते हैं, जिनमें:

  • हाइपोथायराइडिज्म के बढ़ जाने का खतरा: कुछ महिलाएं प्रेग्नेंसी के दौरान हाइपोथायराइडिज्म का शिकार हो सकती हैं, क्योंकि गर्भावस्था के दौरान थायराइड हार्मोनों की मात्रा बढ़ सकती है, जिसका प्रबंधन करने के लिए उचित ध्यान और इलाज की आवश्यकता हो सकती है।
  • थायराइड ग्रंथिका कैंसर का खतरा: प्रेग्नेंसी के दौरान, थायराइड ग्रंथिका कैंसर का जोखिम बढ़ सकता है।
  • बच्चे के निर्माण और विकास पर प्रभाव: मां की थायराइड समस्याएँ उसके गर्भ में बच्चे के निर्माण और विकास पर प्रभाव डाल सकती हैं, जैसे कि बच्चे के न्यूरल ट्यूब और इंटेलेक्चुअल विकास पर।
  • पोस्टपार्टम थायराइड समस्याएँ: प्रेग्नेंसी के बाद, कुछ महिलाएं पोस्टपार्टम थायराइड समस्याओं का सामना कर सकती हैं, जिसका सही इलाज महत्वपूर्ण होता है।
  • गर्भपात के जोखिम: थायराइड समस्याओं के उपचार के बिना, गर्भपात का खतरा बढ़ सकता है।

गर्भावस्था के दौरान थायराइड स्वास्थ्य को नियंत्रित रखने के लिए नियमित चिकित्सा जांच, उपचार, और अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करना महत्वपूर्ण होता है।

थायराइड में गर्भधारण कब कर सकते हैं?

थायराइड समस्या के साथ भी गर्भधारण संभव है, लेकिन इसके लिए थायराइड स्तर को नियमित रूप से नियंत्रित करना महत्वपूर्ण होता है। आप गर्भधारण का प्रयास करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करें, जिससे वे आपके थायराइड स्तर को मानये और उचित इलाज सुझाव दें। वे आपके स्वास्थ्य और थायराइड की स्थिति को मानकर गर्भधारण की सलाह देंगे। साथ ही, नियमित मेडिकल जाँच, स्वस्थ आहार, और स्वस्थ जीवनशैली का पालन करना भी महत्वपूर्ण होता है।

​गर्भधारण के दौरान थायराइड कैसे कंट्रोल करें

गर्भधारण में थायराइड को कंट्रोल करने के लिए निम्नलिखित सुझाव दिए गए हैं:

  • नियमित चिकित्सा जांच: प्रेग्नेंसी के दौरान थायराइड स्तर की नियमित जांच करवाएं। आपके डॉक्टर द्वारा सलाह दी जाएगी कि कितनी बार जाँच करवानी चाहिए और आपके थायराइड स्तर को कैसे नियंत्रित रखना होगा।
  • डॉक्टर की सलाह पर दवाएं लें: अपने थायराइड समस्या के लिए डॉक्टर द्वारा सुझाई गई दवाओं का नियमित रूप से सेवन करें।
  • स्वस्थ आहार: सही आहार खाना महत्वपूर्ण है। थायराइड समस्या वाले महिलाएं जिंक, सेलेनियम, और योडीन जैसे मिनरल्स का सही से सेवन करने के लिए सलाह पर चलें।
  • स्वस्थ जीवनशैली: स्वस्थ जीवनशैली अपनाने में सहायक हो सकती है। योग, मेडिटेशन, और स्ट्रेस प्रबंधन तकनीकें सुझावित हो सकती हैं।
  • नियमित जांच और समर्थन: अपने डॉक्टर के साथ नियमित रूप से मिलें और उनके साथ थायराइड के स्तर का मानयन करें।
  • डॉक्टर की सलाह पर परिपर्ण रूप से चलें: अपने थायराइड समस्या के इलाज में अपने डॉक्टर की सलाह पर पूरी तरह से चलें और उनके सुझावों का पालन करें।

गर्भधारण के दौरान थायराइड समस्याओं का सही इलाज और नियमित मॉनिटरिंग महत्वपूर्ण होता है, ताकि आपकी और आपके बच्चे की स्वास्थ्य को सुरक्षित रखा जा सके।

क्या हाइपोथायरायडिज्म और बांझपन के बीच कोई संबंध है?

कभी-कभी हाइपोथायरायडिज्म – जब आपकी थायरॉयड ग्रंथि कम सक्रिय होती है – और महिलाओं में बांझपन के बीच एक संबंध होता है।

हाइपोथायरायडिज्म के साथ, आपकी थायरॉयड ग्रंथि कुछ महत्वपूर्ण हार्मोनों का पर्याप्त उत्पादन नहीं करती है। थायराइड हार्मोन का निम्न स्तर आपके अंडाशय (ओव्यूलेशन) से अंडे की रिहाई में बाधा डाल सकता है, जो प्रजनन क्षमता को ख़राब करता है। इसके अलावा, हाइपोथायरायडिज्म के कुछ अंतर्निहित कारण – जैसे कि कुछ ऑटोइम्यून या पिट्यूटरी विकार – प्रजनन क्षमता को ख़राब कर सकते हैं।

महिलाओं के लिए, हाइपोथायरायडिज्म का इलाज बांझपन को ठीक करने के किसी भी प्रयास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यदि हाइपोथायरायडिज्म ठीक होने के बाद भी बांझपन बना रहता है, तो बांझपन के इलाज के लिए अन्य हस्तक्षेपों की आवश्यकता हो सकती है।

यदि आपको हाइपोथायरायडिज्म है और आप गर्भवती हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर को बताएं। गर्भावस्था के दौरान आपके थायराइड हार्मोन स्तर की बारीकी से निगरानी करने से भ्रूण के सामान्य विकास को बढ़ावा मिल सकता है और गर्भपात का खतरा कम हो सकता है।

अंतिम शब्द – Final Word

ध्यान दें कि गर्भावस्था के दौरान थायराइड नियंत्रित रखना अत्यंत महत्वपूर्ण हो सकता है, क्योंकि अगर थायराइड असंतुलित हो तो यह गर्भावस्था को प्रभावित कर सकता है। इसलिए, समय-समय पर डॉक्टर की सलाह लें और नियमित चेकअप करवाएं।

यदि आपको हाइपोथायरायडिज्म है और आप गर्भवती होने की आशा रखती हैं, तो यह सुनिश्चित करने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें कि आपका हाइपोथायरायडिज्म नियंत्रण में है। यदि आवश्यक हो तो बांझपन विशेषज्ञ से अतिरिक्त सहायता लें।

क्रिस्टा आईवीएफ कानपुर सबसे बड़ी प्रजनन श्रृंखला है जो उन बदकिस्मत दंपत्ति को उत्कृष्ट प्रजनन उपचार प्रदान करती है जो जल्द ही माता-पिता बनना चाहते हैं। यह डॉक्टरों के एक समूह से जुड़ा है जिसका उद्देश्य माता-पिता बनने की यात्रा का आनंद लेने के लिए सर्वोत्तम प्रजनन उपचार प्रदान करना है।

अधिक जानने के लिए आज ही कॉल करें। +918938935353

Related Post:

Can Thyroid Problems Affect Fertility?

Leave a Reply